Monday, March 4, 2019

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 | PM Pravasi Tirth Darshan Yojana[KIP]-sarkaari yojna

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 | PM Pravasi Tirth Darshan Yojana[KIP]-sarkaari yojna

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 | PM Pravasi Tirth Darshan Yojana-sarkaari yojna

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना[Sarkaari Yojna] 2019:

लोकसभा चुनाव नजदीक होने के कारण सरकार के कार्य और भी अधिक सक्रिय हो चुके हैं तथा सरकार भारतीय नागरिकों के लिए योजनाओं पर योजनाएं निकलती जा रही है तो आज हम सरकार द्वारा निकाली गई हाली हाली की योजना प्रधानमंत्री तीर्थ दर्शन योजना [Sarkaari Yojna]के बारे में जानेंगे और जानिए कि प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 में आवेदन किस प्रकार किया जाता है, और योग्यता क्या है, तथा इसके क्या-क्या लाभ है |
जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि यह योजना किसी ना किसी तीर्थ यात्रा से संबंधित होगी तो यह यात्रा भारतीय धार्मिक स्थलों की यात्रा के लिए बनाई गई है तथा इस योजना [Sarkaari Yojna] के द्वारा सभी 1 वर्ष में दो बार आध्यात्मिक यात्रा का लाभ उठा सकते हैं तथा यह यात्रा प्रवासी भारतीय नागरिकों के लिए भी है जो मूल रूप से भारत से है लेकिन दूसरे देशों में जाकर बस गए हैं इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी 2019 को की थी|
तथा इस योजना [Sarkaari Yojna] में सबसे पहले लाभ उठाने वाला समूह योजना की प्रारंभिक के समय उपलब्ध था और इसमें इस योजना का सबसे पहले लुफ्त उठाया इस योजना से भारत छोड़कर विदेश में बसने वाले लोगों को भारत की आध्यात्मिकता और धार्मिकता का ज्ञान होगा और भारत की संस्कृति का प्रचार विदेशों में भी होगा इस योजना की मुख्य बात यह है कि यह योजना सिर्फ भारतीय मूल के विदेशों में रहने वाले लोगों के लिए बनाई गई है |

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना [PM Pravasi Tirth Darshan Yojana] के कुछ मुख्य तथ्य:-

  • प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 विदेशों में भारतीय संस्कृति और धर्म के प्रचार के लिए बनाई गई है |
  • प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 से पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा |
  • यह योजना भारतीय आध्यात्मिकता को विदेशों में चलाने में खिलाने में काफी मददगार साबित होगी |
  • इस योजना के तहत यात्रियों को भारत के सभी धार्मिक स्थलों पर भ्रमण के लिए ले जाया जाएगा |
  • प्रत्येक व्यक्ति इस योजना के तहत साल में २ बार यात्रा कर सकता है |
  • इस योजना का लाभ केवल 45 वर्ष से 65 वर्ष तक के लोग भी उठा पाएंगे |
  • प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 का कार्यकाल काल लगभग 25 दिन का होगा |
  • इस योजना  [Sarkaari Yojna] में आने वाला सारा खर्च केंद्र सरकार द्वारा उठाया जाएगा |
  • इस योजना में मुख्यतः गुयाना मोरेश्वर ऑस्ट्रेलिया जमैका फिजी अमेरिका आदि देश शामिल है |

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना[PM Pravasi Tirth Darshan Yojana] के लाभ:-

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना 2019 के कई सारे लाभ हैं लेकिन इस योजना [Sarkaari Yojna] का मुख्य लाभ है कि इस योजना से भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिकता तथा पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और विश्व भर में भारत के पर्यटन को उचित स्थान मिलेगा तथा इससे आने वाले पर्यटकों की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि आप 40 तो आए ही लेकिन साथ में 5-5 उस देश के नागरिकों को भी लेकर आए इस योजना को चलाने का सरकार का मुख्य उद्देश्य पर्यटन को बढ़ावा देना है तथा अन्य रूप से देखें तो इस योजना से प्रवासी लोगों को भारत की अर्थव्यवस्था राजनीतिक व्यवस्था को भी जानने का मौका मिलेगा इस योजना के अंदर मुख्य रूप से गिरमिटिया देश के नागरिकों को प्राथमिकता दी गई है इस योजना से की गई यात्रा के दौरान यात्रियों को सभी प्रकार के पारंपरिक नृत्य,लोकनृत्य,गान से भी अवगत कराया जाएगा |

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना में आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज :-

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना [Sarkaari Yojna] 2019 में आवेदन करने के लिए आवेदन कर्ता को मुख्य दो प्रकार के दस्तावेजों की आवश्यकता होगी 

  1. आयु प्रमाण पत्र 
  2. जिस देश से वह यात्री है उस देश का रेजिडेंटल प्रमाण पत्र जिससे कि यह प्रमाणित हो सके की आवेदन कर्ता एक भारतीय मूल का प्रवासी है 

प्रधानमंत्री प्रवासी तीर्थ दर्शन योजना [Sarkaari Yojna] 2019 में आवेदन करने के लिए केंद्र सरकार ने विशेष तौर पर एक पोर्टल लॉन्च किया है जिसका नाम है Know india program जिस पर जा करके आप रजिस्टर या लॉगइन कर सकते हैं और अपना फॉर्म सबमिट कर कर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं इस योजना के ऑफिशल पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करें = APPLY



No comments:

Post a Comment